Collection of 100+ Short Stories in Hindi with Moral for Kids [June 2024]

दोस्तों बचपन में आपने अपने दादी से , फुआ से, या फिर अपने माँ और बाबा से कहानिया तो जरुर सुनी होंगे आज ऐसे ही कुछ कहानियो की जानकारी के लिए हम ये लेख 100+  Short Stories in Hindi With Moral For Kids ले कर आये है. ये सारे कहानिया हिंदी में है और और कुछ कहानिया बहुत ही छोटी है जिसे याद कर आप अपने बच्चो को सुना सकते है. हर किसी के जीवन में छोटे में कोई न कोई कहानिया ऐसी होती है जिसे याद हो जाता है और जब हम बड़े होते है तब उन्ही कहानियो को कभी भी कही सुनते है तो बचपन की याद आ जाती है.

हम सब के बचपन की कुछ कहानिया जैसे खरगोश और  कछुआ की कहानी, कितनी मोहब्बत है कहानी, चार मोमबत्ती की कहानी, ऊंट और व्यापारी की कहानी, ऐसे बहुत सारे कहानिया है और इन सभी कहानियो में कुछ न कुछ नैतिक मूल्य बाते छिपी होती है और ये कहानी जिससे हमें शिक्षा मिले इसीलिए भी बनायीं जाती है.ऐसे ही कुछ कहानिया मोरल स्टोरी इन हिंदी फॉर किड्स से आपकी बचपन की यादें ताजा होने वाली है.

ये छोटी छोटी प्रेरक कहानियां बहुत ही ज्ञानवर्धक होती है जिनसे हमे एक moral मिलता है. तो चलिए पढ़ते है कुछ छोटी प्रेरक ज्ञान स्टोरी

यहां 10 मजेदार कहानियां हैं जो आपको मनोरंजन करेंगी: (top 10 moral stories in hindi)

1. “सातवां रंग” (short moral stories in hindi for class 1)

एक समय की बात है, एक गांव में एक राजा रहता था। वह अपने रंगीन बगीचे में रोज़ घूमने का आनंद लिया करता था। एक दिन उनकी रानी ने कहा, “राजा जी, आपकी बगीचे में सिर्फ छह रंग ही हैं। यह एक short moral stories in hindi है . आप अगले दिन सातवे रंग का एक फूल लाने का प्रयास करेंगे?” राजा ने चुनौती स्वीकार की और अपनी महिलाओं को बगीचे में एक सातवे रंग के फूल ढूंढ़ने के लिए निर्देश दिए। क्या उन्हें सफलता मिलेगी? यह कहानी रंगीनता, साहस, और टीमवर्क की महत्वपूर्णता को दर्शाती है।

2. “चतुर बंदर” (short moral stories in hindi for class 1)

यह एक short moral stories in hindi है. एक जंगल में एक चतुर बंदर रहता था जिसे दूसरे जानवरों से मदद चाहिए थी। वह एक उड़ने वाले पक्षी के पास गया और कहा, “क्या आप मुझे उड़ा सकते हैं?” पक्षी ने मना कर दिया क्योंकि बंदरों को उड़ना नहीं सिखाया जा सकता है। बंदर फिर और भी कई जानवरों के पास गया, लेकिन सभी ने उसे मदद नहीं की। अंत में, उसने अपनी चतुरता और नौकरी के साथ एक बड़ी उड़ान उड़ी। यह कहानी हमें सिखाती है कि हमें अपने क्षमताओं पर विश्वास रखना चाहिए और स्वयं से समाधान ढूंढ़ना चाहिए।

3. “खो गया हाथी” (class 2 short moral stories in hindi)

एक बार एक हाथी ने अपने दोस्तों से कहा, “मुझे एक सवारी दौड़नी है। क्या आप मेरे साथ आएंगे?” दोस्तों ने स्वीकार कर लिया और सवारी के लिए तैयार हो गए। लेकिन रास्ते में हाथी गड़बड़ हो गया और उसे एक समय में सबसे आगे निकलना पड़ा। दोस्त उसे ढूंढ़ने के लिए नापसंद हो गए और अपने रास्ते पर चले गए। एक समय बाद, हाथी अकेला रह गया और उसे अपनी गलती का एहसास हुआ। यह कहानी स्वार्थ, वफादारी, और टीमवर्क की महत्वता को बताती है। यह एक short moral stories in hindi थी. जिसे आप अपने बच्चो को सुना सकते है 

4. “उल्लू और लोमड़ी” 

एक गांव में एक उल्लू और एक लोमड़ी रहते थे। उल्लू हमेशा अपनी चालबाजी करने की कोशिश करता था और लोमड़ी सभी को बेवकूफ बनाने में माहिर थी। एक दिन, लोमड़ी ने एक चालबाजी करके उल्लू को अच्छे से पेशाब करवा लिया। लोमड़ी खुश हुई, लेकिन उल्लू ने बाद में सबक सिखाया और उसे सच्चाई का आदर्श बनाया। यह short moral stories in hindi कहानी बुद्धिमानी, चतुराई, और अच्छाई को उजागर करती है।

5. “हंस और मेंढ़क”

एक बार एक हंस और मेंढ़क एक गांव की यात्रा पर निकले। मेंढ़क ने कहा, “मैं इतना मजबूत हूँ कि अगर मैं तुम्हें उड़ाने के लिए बढ़िया सीढ़ी दूं तो तुम उड़ जाओगे।” हंस ने आस्था करते हुए मेंढ़क की सीढ़ी पर चढ़ गया और झूल गया। जब उसने पटकथी से उड़ने की कोशिश की, तो सभी देखते रह गए। यह कहानी short moral stories in hindi आत्मविश्वास, सच्चाई, और स्वयं को परखने की महत्वता को दर्शाती है।

6. “आलसी बिल्ली”

एक बार एक बिल्ली जंगल में रहती थी और वह बहुत आलसी थी। उसकी दिनचर्या में कोई सक्रियता नहीं थी और वह सिर्फ सोती और खाती रहती थी। एक दिन, उसकी ज़रुत को पूरा करने के लिए वह अपने आप को सक्रिय करने के लिए मजबूर हुई और एक सफर पर निकली। उसने नई दुनिया की खोज की और अपनी आलसी आदत से छुटकारा पाया। यह कहानी short moral stories in hindi हमें कार्यशीलता, सक्रियता, और समय का महत्व बताती है।

7. “बुद्धिमान उल्लू”

एक जंगल में एक बुद्धिमान उल्लू रहता था जिसे हमेशा सबकी सलाह देने का शौक था। उसे अपनी बुद्धि की गरिमा और सत्यनिष्ठा पर गर्व था। एक दिन, एक छोटी सी मुर्गी ने उसे देखा और पूछा, “तुम मुझसे बेहतर क्यों हो?” उल्लू ने धीरे से बताया, “मैं रात के समय ज्ञान की ज्योति का उपयोग करता हूँ और अपने शिकार के पास बिना दिखाए ही पहुंच जाता हूँ।” मुर्गी ने अचंभित होकर उसे मान लिया। यह कहानी short moral stories in hindi हमें विवेक, आत्मविश्वास, और दूसरों का सम्मान करने की महत्वता सिखाती है।

8. “बनारसी पान”

एक बार एक आदमी ने एक पानवाले से पान खरीदा। जब उसने बिल दिया, तो पानवाले ने कहा, “मैं आपको उस आदमी के साथ एक अनोखा वादा करता हूं जो मेरे पास दैनिक आता है।” आदमी अचंभित होकर पूछा, “क्या वादा है?” पानवाले ने कहा, “आप मुझसे एक दिन बाद अपना बिल भरेंगे।” आदमी ने सहमति दी और अगले दिन वापस आकर बिल भर दिया। इस कहानी short moral stories in hindi से हमें ईमानदारी, विश्वास, और अपने वचन के प्रति पालन करने की महत्वता सीखाई जाती है।

9. “खरगोश और कछुआ” (rabbit and tortoise story in hindi)

एक खरगोश और एक कछुआ एक घास के मैदान में दौड़ रहे थे। खरगोश तेज़ी से दौड़ता था, जबकि कछुआ धीरे धीरे आगे बढ़ रहा था। खरगोश ने सोचा, “मैं जीतूंगा, मैं इतनी तेज़ी से दौड़ता हूँ!” अंत में, जब वे अंतिम रेखा पार करने के लिए पहुंचे, तो कछुआ उससे आगे था। यह कहानी short moral stories in hindi हमें दृढ़ता, संयम, और सहनशीलता की महत्वता सिखाती है।

10. “अकलमंद बच्चा” (new moral stories in hindi)

एक बार एक अकलमंद बच्चा अपने पिता के पास आया और पूछा, “पापा, मुझे एक सवाल का जवाब दो। अगर दुनिया में सबका रंग हरा होता है, तो सबका पसंदीदा रंग कौन होगा?” पिता ने सोचा और फिर कहा, “मेरे बेटे, जब हमें एक-दूसरे की भिन्नता का सम्मान करना चाहिए, तो सबका पसंदीदा रंग हरा होगा।” बच्चा समझ गया और खुश होकर चला गया। यह कहानी short moral stories in hindi हमें समानता, सम्मान, और तोले-में-तुलना की महत्वता सिखाती है।

ये थीं कुछ मजेदार कहानियां! उम्मीद है, आपको ये पसंद आएंगी।

खरगोश और कछुआ की पूरी कहानी (rabbit and tortoise story in hindi)

एक बार की बात है, एक जंगल में एक खरगोश और एक कछुआ रहते थे। दोनों अलग-अलग प्रकृति के होते थे और उनकी दोस्ती बड़ी अनोखी थी।

खरगोश बहुत तेज और चालाक था, जबकि कछुआ धीमा और सोचवाला था। एक दिन, खरगोश और कछुआ बात कर रहे थे और खरगोश ने कहा, “मुझे तो तुमसे तेज दौड़ में हराना बहुत आसान है। क्या तुम मेरी दौड़ में मुकाबला करोगे?”

कछुआ ने मुस्कराते हुए कहा, “मुझे तेरे साथ दौड़ने में कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन तू मुझसे दौड़ में हारेगा।”

दोस्ती की प्रतियोगिता देखने के लिए, दोनों ने एक दिन की एक दौड़ आयोजित की। दौड़ के लिए दौड़ाई जा रही दूसरी दौड़ के बाद, खरगोश पहले ही लक्ष्य तक पहुंच गया। कछुआ आराम से दौड़ रहा था और जब उसने लक्ष्य तक पहुंचा, तो खरगोश वापस आ गया।

खरगोश ने कहा, “तू तो अपनी वैधिक सूक्ति के तहत धीमा दौड़ रहा है। अगर तू मुझसे तेज दौड़ने के बारे में सोचेगा तो तू मुझसे हारेगा नहीं ही।”

कछुआ ने मुस्कान के साथ कहा, “तू तो तेज दौड़ से सिर्फ एक दौड़ जीत सकता है, लेकिन मैं धीरज से दौड़ते रहूंगा और जीत हासिल करूंगा।”

खरगोश और कछुआ की दौड़ के बाद, खरगोश शर्मिंदा हो गया और स्वीकार किया कि कछुआ उससे बेहतर दौड़ता है। उनकी दोस्ती और समझौता और मजबूत हुई।

यह एक bedtime moral stories in hindi है .इस कहानी से हमें यह सबक मिलता है कि जीवन में हमेशा जितने के लिए तेज और चालाक होने की ज़रूरत नहीं होती है, बल्कि हमें धीरज और सहनशीलता की ज़रूरत होती है। एक समय आता है जब विजय उसे मिलती है, जहां तेज और चालाकता फेल हो जाती है, और धीरज और सहनशीलता सच्ची जीत लाती है।

बच्चों के लिए प्रेरक कहानियां (moral stories in hindi for kids)

1. “सितारों की उड़ान” (long moral stories in hindi)

यह कहानी एक बच्चे के बारे में है जिसका सपना होता है कि वह सितारों तक पहुंचे। वह अपने सपने को पूरा करने के लिए मेहनत करता है और निरंतर प्रयास करता है। इस कहानी से बच्चों को सिखाया जाता है कि उन्हें अपने सपनों की ओर अपना ध्यान देना चाहिए और संकल्पितता से काम करना चाहिए।

2. “खरगोश और कछुआ”

यह कहानी hindi moral stories short है और यह एक खरगोश और एक कछुए के बीच की है जो एक दौड़ में मुकाबला करते हैं। खरगोश तेज और चुस्त होने के कारण जीत जाता है, जबकि कछुआ धीरे और सतर्क होने के कारण हार जाता है। इस कहानी से बच्चों को यह सिखाया जाता है कि महत्वपूर्ण नहीं है कि वे कितने तेज या मजबूत हों, बल्कि महत्वपूर्ण है कि वे मेहनत, दृढ़ता, और संयम के साथ काम करें।

3. “बंदर की मेहनत”

यह कहानी एक बंदर के बारे में है जो ईमानदारी पर छोटी कहानी with moral in hindi है  जिसे एक पेड़ पर फल खाने के लिए पहुंचना होता है। पहले वह आसनी से पहुंच जाता है, लेकिन जब उसे उत्कृष्टता और मेहनत की जरूरत होती है, तो उसे कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। बंदर निरंतर मेहनत करता है और अपने लक्ष्य तक पहुंचता है। यह कहानी बच्चों को यह सिखाती है कि सफलता मेहनत और संघर्ष के पीछे होती है और वे किसी भी लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं, अगर वे परिश्रम करें।

4. “लालची भालू”

यह कहानी moral stories in hindi class 1 एक लालची भालू के बारे में है जिसका ग्रहण बड़ी चीजें करने की आदत होती है। वह धन के पीछे भागता है और खुद को खो देता है। यह कहानी बच्चों को यह सिखाती है कि लालच करने से बचें और संतुष्टि का महत्व समझें। सच्ची खुशी और समृद्धि संतुष्टि में ही मिलती है, न कि भविष्य में पाने के लिए बड़ी चीजों के पीछे भागने से।

पंचतंत्र की शिक्षाप्रद कहानियां (panchatantra moral stories in hindi)

1. “भालू और मछली” 

इस कहानी moral stories in hindi class 4 में एक भालू और एक मछली की कहानी है। भालू एक दिन झील में घूम रहा था जब उसने एक मछली को देखा। भालू को मछली की आकृष्टि हो जाती है और उसे पकड़ने के लिए पानी में हाथ डालता है। मछली कहती है, “कृपया मुझे छोड़ दो, मैं तुम्हें कुछ अद्वितीय बातें सिखा सकती हूँ।” भालू ने मछली को छोड़ दिया और मछली ने उसे जीवन के महत्वपूर्ण सिद्धांतों के बारे में सिखाया। यह कहानी हमें सिखाती है कि हमें दूसरों के अनुभव से सीखना चाहिए और हमारे व्यक्तित्व को समृद्ध करने के लिए बातचीत और सहयोग महत्वपूर्ण है।

2. “लोमड़ी और कौवा”  

इस कहानी moral stories in hindi class 7 में एक लोमड़ी और एक कौवा की कहानी है। एक दिन, लोमड़ी देखती है कि कौवा बहुत ही लालसा से खाना चुरा रहा है। लोमड़ी तकनीकी होकर कौवे का खाना चुराने की कोशिश करती है, लेकिन वह फंस जाती है। इस परिस्थिति में, कौवा और लोमड़ी एक-दूसरे की मदद करके बाहर निकलते हैं और साझा-संयोजन करके अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हैं। यह कहानी हमें सिखाती है कि चालाकी से आपत्तिजनक कार्यों का प्रयोग न करें, बल्कि सहयोग और साझेदारी से समस्याओं का समाधान ढूंढें।

3. “सिंह और खरगोश”  (moral stories in hindi class 5)

इस कहानी में एक सिंह और एक खरगोश के बीच एक प्रिय मित्रता की कहानी है। दोस्ती के बावजूद, खरगोश और सिंह का स्वभाव अलग-अलग होता है। खरगोश बहुत चतुर और दौड़ने का प्रिय है, वहीं सिंह शांत और धीरजीवी है। एक दिन, खरगोश और सिंह एक दौड़ते हुए खरीदारी क्षेत्र में जाते हैं। खरगोश चतुराई के कारण उसे अपने दुश्मनों से बचाना पड़ता है और वह अच्छी तरह से सफल होता है। इस कहानी से हमें सिखाया जाता है कि प्रतिबद्धता, विवेक और समय पर आवाज़ उठाने की क्षमता आपकी सफलता के लिए महत्वपूर्ण है।

4. “मेंढ़क और बकरी”  (moral stories in hindi class 6)

इस कहानी में एक मेंढ़क और एक बकरी के बीच एक अद्वितीय मित्रता त्रता की कहानी है। मेंढ़क और बकरी अपने आप में अलग-अलग होते हैं, परंतु उनकी मित्रता अटूट होती है। एक दिन, मेंढ़क अपने बादल गाने के लिए उड़ता है और बकरी अकेली हो जाती है। वह डरती है और मेंढ़क की मदद मांगती है। मेंढ़क उसे अपनी पंखों पर बिठाकर सुरक्षित रखता है और उसे अपने घर तक ले जाता है। यह कहानी moral stories in hindi class 10 हमें सिखाती है कि सच्ची मित्रता में विश्वास, साझेदारी, और समर्पण का महत्व होता है।

4 बच्चों की कहानियां

1. “सोनू की चाटुकारी” (moral stories in hindi class 3) 

यह कहानी एक छोटे से बच्चे नाम सोनू की है। सोनू बहुत ही शरारती बच्चा था और उसकी माता-पिता को उसकी चाटुकारी के कारण काफी परेशानी होती थी। एक दिन, सोनू गर्मी के दिनों में बहुत सारे आम चोरी कर लाता है और उन्हें एक छत के नीचे छिपाने का फैसला करता है। लेकिन जब उसके पास चाटने के लिए आम खाने का वक्त आता है, तो उसे अपने दोस्तों के साथ आम सबको खिलाने में बहुत खुशी होती है। इस कहानी से हमें यह सिखाने का संदेश मिलता है कि बच्चों की शरारतों को समझना और उन्हें उचित मार्गदर्शन देना महत्वपूर्ण है।

2. “मिताली की खोज” (छोटी कहानी with moral in hindi)

यह कहानी मिताली नामक एक बुद्धिमान बच्ची की है। एक दिन, मिताली अपने पिता के साथ एक जंगल में घूमने जाती है। जंगल में उसे एक पुराने मंदिर की खोज करने की चुनौती दी जाती है। मिताली अपनी बुद्धिमानी का उपयोग करते हुए, उस मंदिर को ढूंढने के लिए जंगल के गहरे-गहरे हिस्सोमें जाती है। अंत में, उसे मंदिर मिल जाता है और वह अपने पिता को बड़ी खुशी से बताती है। यह कहानी हमें यह बताती है कि बच्चों में अद्वितीय बुद्धिमानि होती है और हमें उन्हें स्वतंत्रता देनी चाहिए ताकि वे अपनी सामरिक और तार्किक क्षमता को विकसित कर सकें।

3. “रोहन का विमान” (moral stories in hindi class 9)

यह कहानी एक बच्चे रोहन की है, जो बड़े होकर विमान निर्माणकर्ता बनना चाहता है। रोहन एक दिन अपने दोस्तों के साथ घटनाक्रम में भाग लेता है जहां उसे विमान बनाने का मौका मिलता है। रोहन ने अपने दोस्तों की मदद से अपना विमान बनाया और उसका परीक्षण उड़ान सफल होता है। इस कहानी से हमें यह सिखाने का संदेश मिलता है कि हमें अपने सपनों का पीछा करना चाहिए और मेहनत, सहयोग और समर्पण के माध्यम से उन्हें प्राप्त करना चाहिए।

4. “प्रिया और दोस्तों की मदद” (moral stories in hindi class 8)

यह कहानी प्रिया नामक एक सच्चे और उदार हृदय वाली बच्ची की है। प्रिया अपने दोस्तों के साथ खेलती थी

Bedtime moral stories in hindi

दोस्ती की महत्ता : दोस्ती की महत्ता
बहुत समय पहले की बात है, एक छोटे से गांव में राम और श्याम नामक दो बच्चे रहते थे। वे दोनों बहुत ही अच्छे दोस्त थे और हर काम में एक साथ रहते थे। उनकी दोस्ती गांव के सभी लोगों के बीच मशहूर थी।
एक दिन, राम और श्याम के बीच में एक छोटी सी लड़ाई हो गई। वह लड़ाई इतनी तेज हो गई कि उन्होंने एक दूसरे के खिलाफ बहुत बड़े-बड़े शब्दों का उपयोग करना शुरू कर दिया। दोनों दोस्त अपनी बात जीतने के लिए बहुत ऊँचाईयों तक जा गए।
लड़ाई के बाद, राम और श्याम दोनों ही बहुत ही उदास और निराश हो गए। वे दोनों अच्छे दोस्त थे, लेकिन उन्होंने अपनी दोस्ती के फंदे को अलग कर दिया। गांव के लोग इसे देखकर बहुत ही चिंतित हो गए और उन्होंने राम और श्याम को समझाया कि दोस्ती का महत्त्व बहुत होता है।
राम और श्याम को अपनी गलती का एहसास हो गया। उन्होंने सोचा कि वे अब फिर से द
ोस्त बन सकते हैं और दोबारा से अपनी दोस्ती को मजबूत बना सकते हैं। वे एक-दूसरे को माफ कर दिया और फिर से दोस्त बन गए।
इस घटना से राम और श्याम ने सीखा कि दोस्ती किसी भी संघर्ष के लिए महत्वपूर्ण होती है। अच्छे दोस्त हमेशा एक दूसरे का साथ देते हैं और कठिनाइयों का सामना करने में मदद करते हैं। दोस्ती आपको खुश और समृद्ध बनाती है और आपको एक दूसरे का सम्मान करने की शिक्षा देती है।
इसलिए, राम और श्याम ने वादा किया कि वे अपनी दोस्ती को हमेशा बनाए रखेंगे और किसी भी समस्या का सामना करते समय एक-दूसरे का सहारा देंगे। उन्होंने इस घटना से यह सीखा कि दोस्ती जीवन का एक अनमोल खजाना है और हमेशा इसे संरक्षित रखना चाहिए।
ऊंट और व्यापारी की कहानी 
एक बार की बात है, गांव में एक ऊंट रहता था। वह ऊंट बहुत मेहनती और श्रमिक था। एक दिन, व्यापारी नामक एक आदमी गांव में आया और ऊंट को देखकर उसकी मेहनत को देखा। व्यापारी ने उसे अपने साथ ले जाने का फैसला किया।
ऊंट और व्यापारी दोनों साथ में नगर निगम के पास जा पहुंचे। वहां व्यापारी ने ऊंट को बोला, “तुम मेरे लिए बोझ उठाने का काम करोगे। मैं तुम्हें अच्छा खाना दूंगा और तुम्हारी देखभाल करूंगा, लेकिन तुम मेरे कमरे की सजावट के लिए और अन्य कामों के लिए भी जिम्मेदार रहोगे।”
ऊंट ने इस प्रस्ताव को मान लिया, क्योंकि वह अपनी मेहनत की मायादारी से अच्छे खाने का आनंद लेना चाहता था। व्यापारी ने ऊंट को अच्छा खाना, ठंडे पानी की बर्फ और सुरक्षा के साथ खुश रखा।
एक दिन, व्यापारी ने बहुत सारी माल पर्स में भरकर ऊंट को साथ ले जाने का फैसला किया। उसने पुरस्कार के रूप में ऊंट को दो सोने के सिक्के दिए।
 ऊंट ने सोने के सिक्कों को ध्यान से देखा और समझा कि ये सोने के सिक्के उसे और अधिक सुख और सुरक्षा देंगे।
ऊंट ने बहुत खुशी महसूस की और सोचा, “अब मैं बहुत ही धनवान हो गया हूँ।” उसने सोने के सिक्के को अपने मुँह में लिया और दौड़ते हुए जंगल की ओर चल दिया। व्यापारी ने यह देखा और उसके पीछे दौड़ते हुए कहा, “ऊंट, सोने के सिक्के मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं, कृपया उन्हें मुझे वापस दे दो।”
ऊंट ने व्यापारी की बात नहीं सुनी और और दौड़ता रहा। व्यापारी ने अपने दौड़ने के कारण बहुत दूर तक पहुंचने में समय लगा और ऊंट को पकड़ने में विफल रहा।
ऊंट ने व्यापारी से कहा, “साहब, आपने मुझे अच्छा खाना, सुरक्षा और सुख दिया। लेकिन आपकी दौड़ने की क्षमता मेरी क्षमता से कम है। मुझे अपनी मेहनत पर गर्व है और आपकी साहसिकता पर भी। मैं वापस आपके पास आ जाता हूँ और आपके साथ मेहनत करता हूँ।”
व्यापारी ने उसकी समझदारी और मेहनत की प्रशंसा की और ऊंट को वापस अपने साथ ले जाने का निर्णय लिया। ऊंट ने अपनी मेहनत जारी रखी और व्यापारी ने उसे उचित मायादारी और सम्मान दिया।
इस कहानी से हमें यह सिख मिलती है कि संपत्ति या धन हमारी मेहनत और कठिनाइयों से प्राप्त होती है, न कि भ्रष्टाचार या छल-कपट से। मेहनत करने और ईमानदारी से जीने की गुणवत्ता महत्वपूर्ण होती है। अपनी मेहनत पर गर्व करें और सत्यनिष्ठा के साथ अपने कार्यों को आगे बढ़ाएं।
horror moral stories in hindi
Here’s a horror moral story in Hindi:
भूतिया बंगला
एक गांव में एक भूतिया बंगला था। लोग कहते थे कि वहाँ एक पुराना भूत रहता है जो रात को लोगों को डराता है। एक दिन, एक बहादुर लड़का ने तय किया कि वह जाकर उस बंगले में रहने के लिए जाएगा।
उस रात, लड़का बंगले में पहुंचा और सोने के लिए एक कमरे में चला गया। उसकी आँखें ठंड से भर गईं, लेकिन वह अपने हौसले को बढ़ाने के लिए खुद को समझाता था कि भूतों की कोई अस्तित्व नहीं होती है।
सुबह हुई और लड़का जग गया। वह खुद को बहुत ही गर्व महसूस कर रहा था। वह उठा, अपनी सामग्री लेकर चला गया और वापस अपने गांव की ओर चल दिया।
जब वह गांव पहुंचा, लोग उसे अद्भुत रूप से देख रहे थे। कुछ लोग उसे पूछने आए और पूछा, “तूने वहां क्या देखा? क्या वहां भूत है?”
लड़का मुस्कराया और कहा, “हां, भूत था, लेकिन वह कुछ नहीं कर सकता। वह सिर्फ डरावने आवाज़ें निकालता
 है।”
यह कहानी हमें यह बताती है कि डर से निपटने के लिए हमें अपने आप पर विजय प्राप्त करना चाहिए। जब हम अपने डरों से मुकाबला करते हैं और उन्हें निकालते हैं, तो हमें बहुत अधिक सफलता मिलती है।
इसलिए, हमेशा डर के सामने अपनी निर्णय क्षमता का उपयोग करें और आगे बढ़ें।
Here’s a horror moral story in Hindi:
दानवीर राजा
बहुत समय पहले, एक राजा था जिसका नाम दानवीर था। वह राजा बहुत ही दुष्ट था और लोगों को परेशान करने का आनंद लेता था। उसके राज्य में राज्यात्मक बदलाव का दौर चल रहा था।
एक दिन, एक बहुत बुद्धिमान साधू उस राजा के सामर्थ्य को जानने के लिए राजमहल में आया। साधू ने कहा, “हे राजा, तुम्हारी शक्ति बहुत बड़ी है, लेकिन यह तुम पर कैसे आयी?” दानवीर राजा मुस्कुराया और घमंड से बोला, “मैं शक्तिशाली हूँ, इसलिए ये शक्ति मेरे पास है।”
साधू ने मुस्कराते हुए कहा, “तुम अच्छे हो सकते हो, पर तुम्हारी शक्ति का इस्तेमाल कैसे हो रहा है, वह महत्वपूर्ण है।” दानवीर राजा को इस पर ध्यान नहीं दिया और साधू को बुरी नजर से देखते हुए कहा, “तुम मेरे बारे में क्या जानते हो, तुम एक साधू हो, तुम्हें क्या मालूम की मैं कौन हूँ।”
साधू ने उसे तीसरा प्रश्न पूछा, “तुम्हें क्या बदलना पसंद है?” दानवीर राज
ा चिंतित हो गया। उसने सोचा कि वह यह जानने में कैसे मदद कर सकता है। तो उसने कहा, “मुझे इस दुष्ट राज्य से मुक्ति चाहिए, मुझे एक नया अच्छा इंसान बनना है।”
साधू ने हंसते हुए कहा, “राजा, तुम्हें वास्तव में अच्छा इंसान बनने की जरूरत है। तुम अपनी शक्ति का उपयोग अच्छे कामों में करो और लोगों की सहायता करो।”
दानवीर राजा ने साधू के वचनों को सुना और अपनी गलतियों को समझा। वह दुष्टता छोड़कर एक नया जीवन शुरू किया। उसने राज्य को सुशासित किया, गरीबों की मदद की और अच्छे कामों में अपनी शक्ति का उपयोग किया।
यह कहानी हमें यह सिखाती है कि हमेशा अपनी शक्ति का सही उपयोग करना चाहिए। हमें दूसरों की मदद करनी चाहिए और अच्छे कामों का इंतजाम करना चाहिए। दुष्टता और क्रूरता से दूर रहना चाहिए और हमेशा नेक बनने की कोशिश करनी चाहिए।