Uniform Civil Code UCC क्‍या है और इसके फायदे और नुक्सान

दोस्तों आजकल राजनीति में यूसीसी यानी यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर खूब चर्चा में है और इससे केंद्र सरकार जल्द से जल्द लागू करना चाहती है लेकिन या आपको पता है यूसीसी से हमारे देश में क्या-क्या फायदा और नुकसान होगा अगर नहीं तो आज हमारे इस आर्टिकल में आप जान सकते हैं
Uniform Civil Code (सिविल यूनिफॉर्म कोड क्या है) UCC क्या है ? आज कल ये राजनीति की दुनिया में सबसे बडा मुद्दा बनते जा रहा है. हमारे बहुत से रीडर ऐसे है जिन्हें UCC के बारे में नहीं पता है उनके लिए ये लेख UCC के बारे में जानने में काफी मददगार साबित होगी. साथ में हम आपको UCC यूनिफार्म सिविल कोड के फायदे और नुक्सान के बारे में भी बताने वाले है. UCC (Uniform Civil Code) का जिक्र सबसे पहले सन १८३५ में ब्रिटिश शासन काल में हुआ था उस समय Uniform Civil Code अपराधो और ठेके जैसे मुद्दे को सभी धर्मो के मानने वाले लोगो पर सामान कानून लागु होना चाहिए.
लेकिन उस समय यह Uniform Civil Code  कानून पारित नहीं हो सका भारत जब आजाद हुआ तब अनुच्छेद 44 में सभी नागरिको के लिए सामान कानून लागु करने की बात कही गयी थी लेकिन भारत में विभिन्न धर्मो के लोग होने के कारण इसे लागू नहीं किया गया. Uniform Civil Code (UCC) को भारत में लागू करना इतना आसन काम क्यों इसका जवाब आपको आगे मिलेगा जानने के लिए पढ़ते रहे Uniform Civil Code (UCC) क्या है ?

UCC  क्या है ? (What is UCC)

UCC यानी Uniform Civil Code (UCC) एक bill/law/ हिंदी में (कानून) है इस कानून में भारत में निवास करने वाले जितने भी धर्मो और समुदाय , जनजाति के लोग है उनपे सामान कानून लागु हो जायेगा. इस कानून को भारत के विधि आयोग ने देश के जितने भी धार्मिक संगठन से जुड़े लोग या आम जनता सबसे 30 दिने के अन्दर राय माँगा है.
यह राय आप ईमेल आईडी membersecretary-lci@gov.in पर भेजना होगा आप चाहे तो Uniform Civil Code (UCC) का सुझाव इनके वेबसाइट पोर्टल के जरिये भी दे सकते है इसके लिए आप legalaffairs.gov.in पर जाए और अपना नाम, मोबाइल number, किस संस्था से है, अपना राज्य, जिला और pin code डाल कर अपना suggestion लिख कर submit कर दे. यह काम आप 10 जुलाई से पहले कर ले. 
हमने अपने हिंदी रीडर्स के लिए एक हिंदी में बना फॉर्मेट तैयार किया है जिसका उपयोग आप यूनिफॉर्म सिविल कोड UCC देश भर के आदिवासी समुदाय पर लागू न करने हेतु कर सकते है ईमेल फॉर्मेट डाउनलोड लिंक 
Note: अगर आप आदिवासी समाज से है तो आप अपने जनजाति का नाम संस्था में डाल दे की आप फलना जनजाति से है 

UCC का full form हिंदी में क्या होता है ?

अगर आपको ucc full form के बारे में नहीं पता है तो जान ले Uniform Civil Code कहते है. UCC को हिंदी में सामान नागरिक संहिता कहते है. अगर आपसे कोई पूछे की ucc का full form क्या होता है तब आप उसे आसानी से बता सकते है.

यूनिफॉर्म सिविल कोड भारत के किस राज्य में लागु है ?

बहुत से लोगो को शायद पता नहीं होगा की भारत का गोवा एक मात्र एक ऐसा राज्य है जहा ucc लागु है वो राज्य है गोवा (GOA) जब गोवा सन 1961 में बना था तब यह यूनिफॉर्म सिविल कोड के साथ ही बना था.

यूनिफॉर्म सिविल कोड में शामिल विषय 

 यूनिफॉर्म सिविल कोड (ucc) के bill या law में 3 चीजे ज्यादा महत्वपूर्ण है वो है 
  1. विवाह, तलाक या गोद लेना 
  2. व्यक्तिगत स्तर
  3. सम्पति का अधिकार  और संचालन 
अगर भारत में यूनिफॉर्म सिविल कोड (ucc) लागु हो जाता है तो इन सभी चीजो में समानताये चली आएगी. और भारत में जितने भी राज्य में उनमे कोई भी जमीन कोई भी खरीद सकता है. जैसे जनजातीय जमीन भारत का कोई भी व्यक्ति नहीं खरीद सकता है अगर यूनिफॉर्म सिविल कोड (ucc) लागु हुआ तो उनका जमीन कोई भी खरीद सकता है.
यूनिफॉर्म सिविल कोड (ucc) को भारत में जल्द से जल्द लागू करने के लिए सरकार की बहुत बड़ी साजिश छिपी हो सकती है. जिनके बारे में बहुत से लोगो को नहीं पता है. और ये भारत की सबसे बड़ी राजनीति होगी.

यूनिफॉर्म सिविल कोड के फायदे (Benefit of UCC)

भारत में देखा जाय को यूनिफॉर्म सिविल कोड को लागू करने के  फायदे राजनेताओ को ज्यादा होगा. भारत को छोर कर जितने भी देश है उन देशो में यूनिफॉर्म सिविल कोड लागु है ऐसा क्यों ? क्या आप जानते है भारत में बहुत से जाति धर्मो समुदाय के लोग रहते है सबके अलग अलग रीती रिवाज है. कुछ धर्मो के खुद के कानून है और भारत के सरकार या कोर्ट को भी को भी उन कानूनों को मानना पड़ता है ऐसे में सरकार का कहना है की किसी भी केस की सुनवाई पर 3-4 महीने का समय लग जाता है   
और अगर भारत में एक सामान यूनिफॉर्म सिविल कोड लागु हो जाये तो किसी भी क़ानूनी कारवाही का निपटारा जल्द से जल्द होगा . तो चलिए देखते है यूनिफॉर्म सिविल कोड के क्या क्या फायदे है. 
  • (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू होने से सभी धर्मो के लोगो को एक सामान अधिकार दिए जायेंगे लेकिन और अधिकार किस धर्म के आधार पर देंगे नहीं पता 
  • (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड से महिलाओ और बूढ़े लोगो को फायदा होगा.
  • अगर (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड लागु होता है तो लडकियों की शादी की उम्र बढ़ा दी जायेगी 
  • पति पत्नी को तलक के सामान अधिकार मिलेंगे 
  • एक से ज्यादा शादी करने पर पूरी तरह से रोक लग जायेगी 
  • सम्पति के उत्तर्धिकारी पुत्र और पुत्री दोनों सामान होंगे
  • live in relationship रहने वाले लोगो को डिक्लेरेशन देना होगा 
ऐसे और भी बहुत सारे (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड के फायदे है चलिए अब बात करते है (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड के नुक्सान से बारे में 

(UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड के नुक्सान

  • अगर (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड के नुक्सान के बारे में बात करे तो भारत में इसका बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ेगा भारत में अनेकता में एकता है वाला देश कहलाता है. चलिए जानते है (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड से क्या क्या नुक्सान है 
  • (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड होने से भारत के विभिन्न जनजाति के लोगो पर बुरा असर पड़ेगा
  • भारत में आदिवासी की जमीन सबसे ज्यादा है तो उनकी जमीन कोई भी (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड कानून के तहत खरीद लेगा.
  • भारत के पूर्वोतर राज्यों में 60% से भी ज्यादा जनजाति निवास करती है उनकी शादी विवाह जैसे रीती रिवाज अलग है वो समाप्त हो जायेगा.  
  • (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड अगर बना तो हिन्दू धर्म को चोर कर बाकी धर्मो के प्रचार या प्राथना पर एक तरह से रोक लग जायेगा.

(UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड किन किन देशो में है

भारत के बाहर बहुत से देश ऐसे है जो (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड लागु है और ये देश है पाकिस्तान, बांग्लादेश, मलेशिया, अमेरिका, आयरलैंड, सूडान, इंडोनेशिया इत्यादि. इन देशो में भारत की तरह अलग अलग जाति धर्मो के लोग बहुत कम मात्र में है इसीलिए इन देशो में (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड को लागू करना आसन काम था लेकिन भारत जैसे विभिन्न धर्मं, संस्कृति, भाषा बोलने वाले लोगो वाले देश में (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड करना आसन काम नहीं है और हम देवनागरीटेक (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड का विरोध करते है.
हमें नहीं लगत है की भारत में (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड की जरुरत है. भारतीय संविधान के अनुसार भारत एक धर्मं निरपेक्ष देश है जहा हर नागरिक को किसी भी धर्मं को मानने का अधिकार है. लेकिन अगर (UCC) यूनिफॉर्म सिविल कोड लागु हुआ तो ये भी ख़तम हो जायेगा.
भारत में 2 प्रकार के पर्सनल लॉ है पहला है हिन्दू मैरिज एक्ट 1956 और दूसरा है मुस्लिम मैरिज एक्ट. बाकी धर्मो के लोगो के अभी तक एक्ट नहीं बना है. 

निष्कर्ष

अगर भारत में ucc लागु होता है तो इससे सब धर्मी के लोगो का नुक्सान है. अगर आप लोगो को ये लेख  यूनिफॉर्म सिविल कोड बिल क्या है पसंद आया तो अपने शेयर जरुर करे.
Enable Notifications OK No thanks