Decentralized Exchange और decentralized exchange क्या है

 

अगर आप क्रिप्टो में निवेश करे है तो आपको Decentralized Exchange और decentralized exchange के बारे में पता होना चाहिए और अगर आपको नहीं पता है तो हम आपको इस लेख पे बताने वाले है. आम तौर पे exchange 2 प्रकार के होते है
  1. Centralized exchange 
  2. Decentralized exchange 

Centralized exchange क्या है ?

Centralized exchange वो exchange है जहा से आप क्रिप्टो एसेट्स जैसे बिटकॉइन या एथेरियम जैसे क्रिप्टो को खरदीने से लिए KYC (know your customer) की जरुरत पड़ती है जो आपके ख़रीदे गए क्रिप्टो को और आपके wallet पे स्टोर किये गए फण्ड को प्रोटेक्ट करता है. Centralized exchange पर ट्रेडिंग किये गए हर यूजर का पर्सनल डाटा को बहुत ही security के साथ स्टोर कर रखा जाता है ताकि समय पड़ने पर उनके किये गए ट्रेड को वो exchange आसानी से देख सकता है. भारत में ज़्यादातर क्रिप्टो exchange Centralized exchange है जैसे wazirx, zebpay, coindcx, coinswitchkuber, ये सारे exchange Centralized exchange है क्युकी इन exchange पर ट्रेडिंग करने के लिए आपको kyc करना बहुत जरुरी है.

  • Centralized exchange के फायदे 

यहा आपको हर समय high liquidity मिलता है 
Centralized exchange का volume भी बहुत ज्यादा होता है जो आपको ट्रेड करने में काफी हेल्पफुल होता है 
इनकी transaction स्पीड काफी फ़ास्ट होती है 

  • Centralized exchange के नुक्सान 

Centralized exchange पे होल्ड किये गए सारे coins का कण्ट्रोल आपके पास नहीं होता है.
इनके पास बहुत ज्यादा संख्या में क्रिप्टो पड़े होते है इसीलिए यहा हैक होने का भी खतरा होता है.
कुछ Centralized exchange अपने फायदे के लिए क्रिप्टो के कीमत को Manipulation करते है  

Decentralized Exchange 

ये वो exchange है जिसका प्रयोग करने के लिए आपको किसी भी प्रकार का kyc की जरुरत नहीं पड़ती है और नहीं इनका कोई physically office किसी स्थान पे होता है. Decentralized exchange बस एक वेबसाइट होता है जहा आप किसी भी क्रिप्टो-क्रिप्टो किसी भी कॉइन को खरीद सकते है ऐसे exchange को Centralized exchange कहते है. Centralized exchange का प्रयोग वो लोग करते है जो अपना पहचान दुनिया को नहीं बताना चाहते है.
Uniswap, SushiSwap, Kyber, dYdX ये सारे exchanges Decentralized exchange  का उदहारण है.

  • Decentralized exchange होने के फायदे 

  1. इसपे आपको किसी भी प्रकार का KYC/AML (एंटी मनी लौन्द्रिंग) के प्रोसेस से नहीं गुजरना पड़ता है 
  2. यहा किसी भी प्रकार का रिस्क नहीं होता है जब तक आप अपनी इनफार्मेशन सुरक्षित रखते है 
  3. किसी भी क्रिप्टो coins को आप खरीद और बेच सकते है 
  4. Decentralized exchange पर रखे गए क्रिप्टो पे सिर्फ आपका हक होता है आप जब चाहे जहा चाहे अपने हार्डवेयर wallet पे स्टोर कर रख सकते है.

  • Decentralized exchange के नुक्सान 

  1. यहा अगर आपका फण्ड चोरी हो जाये तो आप रिकवर नहीं कर सकते है.
  2. Decentralized exchange पे ट्रेड करने पर आपको low liquidity का प्रॉब्लम झेलना पड़ता है 
  3. trasaction स्पीड बहुत कम होती है